डेंगू से बचाव के लिए कीजिये ये खास उपाय

Spread the love
डेंगू से बचाव के लिए कीजिये ये खास उपाय
नमस्कार दोस्तों, आप सब का स्वागत है इस ब्लॉग में, आज के इस ब्लॉग में आप सब के लिए एक महत्वपूर्ण जानकारी है जिसे आप इग्नोर नहीं कर सकते, इन दिनों एक बार फिर से डेंगू फैलता जा रहा है, हम लोगों को बहुत एहतियात बरतने होंगे, डेंगू की ये बीमारी काफी खतरनाक होती है, खासकर अब तो इस सीजन में ये पीक पर है, ऐसे में आप सब से निवेदन है की आप अपना तो ख्याल रखे ही साथ ही साथ अपने परिवार का भी अच्छे से ध्यान रखे, आपके लिए इस लिए आज डेंगू से बचाव के लिए कीजिये ये खास उपाय लेकर आये जिन्हें आप जरुर अपनाये और अपने साथ अपने पड़ोस, दोस्त और रिश्तेदारों को जरुर बताये 
डेंगू फेलाने वाला ऐडीज़ मच्छर दिन में काटता है, खासकर ये मच्छर आपको शरीर के निचले हिस्से में काटते है तो ऐसे में बच्चो को इससे बचाकर रखे उन्हें पुरे कपड़े पहनाये ताकि वो डेंगू से बच सके 
डेंगू फेलाने वाला ऐडीज़ मच्छर रूके हुए साफ पानी में ही पनपता है इसलिए हफ्ते में एक दिन Dry Day मनाएं अर्थात पानी के बर्तनों, कूलर फुलदान हौदी आदि को खाली करें तथा सुखाकर ही पानी भरें। कुलर और कन्टेनरो का पानी 3 दिन बाद अवश्य खाली कर दें। मच्छर के लारवा वाले पानी को नाली में न डालकर, सुखे फर्श पर ही डालें। इसके बाद इसे  एक बार खाली करके सूखाकर व पौंछकर ही ताजा पानी भरें। कई बार देखा गया है की हमारे आस पास खाली पड़े ख़राब टायरों में पानी रहता है जिसकी वजह से डेंगू फैलने का डर रहता है 
पानी के बर्तनों व टंकियो इत्यादि को पूरी तरह ढक कर रखें। छत पर पड़े मटके, टायर, बोतल तथा अन्य टूटे-फूटे बर्तनो को हटा दें, ताकि इनमें बरसात का पानी जमा न हो सके
पुरी बाजू के कपड़ों का इस्तेमाल करें, फिर वो चाहे बच्चे हो या बड़े लोग, आपको इस चीज़ का ज्यादा ख्याल रखना होगा, देखिये हमें मिलकर डेंगू को हराना है 
सोते समय मच्छरदानी का प्रयोग अवश्य करें। यदि तीन दिन बाद कुलर या कन्टेनर को सुखाना सम्भव नहीं है तो कलर या कन्टेनर में सरसों का तेल डाल दें।
बुखार आने पर नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में जाकर खून की मुफ्त जांच तथा डेंगू, पाये जाने पर सरकारी अस्पताल से पूर्ण उपचार भी करवायें। स्वास्थ्य विभाग हरियाणा द्वारा राज्य के नागरिकों के लिए सरकारी हस्पतालों में डेंगू रोगियों के लिए प्लेटलेटस की सुविधा नि:शल्क उपलब्ध करवा रखी है। स्वयं दवाई न खायें-एसप्रीन,बफीन दवाईयों का सेवन न करें।