जानिये क्या क्या फायदे है बच्चो को कहानियां सुनाने के

     जानिये क्या क्या फायदे है बच्चो को कहानियां सुनाने के

 

आज हमारी दुनिया में इंटरनेट ने इतना विस्तार कर लिया है कि हम अपने बच्चों के साथ-साथ खुद भी सारा दिन मोबाइल पर लगे रहते हैं नानी दादी जो बच्चों को कहानियां सुनाती थी वह भी अब मोबाइल में व्यस्त हो गई है मोबाइल का इस्तेमाल रखना बच्चों के लिए हानिकारक है उतना बड़ों के लिए भी हानिकारक है बच्चों के लिए तो उससे भी ज्यादा कई हानिकारक है

जानिये क्या क्या फायदे है बच्चो को कहानियां सुनाने के
कहानियां सुनाने के और सुनने के क्या फायदे हैं
आपसी संबंध का मजबूत होना
बच्चों को कहानियां सुनाने की जरूरत था कि वह बहुत पुरानी थी और आज कहीं ना कहीं लुप्त होती चली जा रही है हम अपने बचपन में अपने माता-पिता अपनी दादी अपनी नानी से बिना कहानियां सुने सोते नहीं थे क्योंकि कहानी की दुनिया में जब हम और बच्चे दोनों एक साथ पहुंचते हैं तो आपस में संबंधों की मजबूती बढ़ती है पंचतंत्र की कहानियां अकबर बीरबल की कहानी विक्रम बेताल की कहानी कौरव पांडव की कहानी रामायण महाभारत बच्चों को बहुत कुछ सुनने को मिलता था उस समय बच्चों के साथ आपसी बातचीत जो होती थी उससे संबंध जो है मजबूत होते थे
बच्चों की जिज्ञासा का शांत होना
अगर बच्चे जो उनके मन में प्रश्न उठाए हैं उन प्रश्नों के उत्तर उन्हें भलीभांति दे दिया जाए तो उनकी जिज्ञासा भी शांत होती है उनकी मानसिक शक्ति भी बढ़ती है उनकी कहानियों पर पकड़ भी बनती है उनकी सुनने की क्षमता भी बढ़ती है एकाग्रता भी बढ़ती है और धीरे-धीरे करके उनका मन पढ़ने की तरफ भी लगता है
जिंदगी की सीख मिलना
जब हम बच्चों को किस्से कहानियां सुनाते हैं तो कहीं ना कहीं जो चीजें आज तक हमें नहीं पता थी उनका हमें भी पता लगता है क्योंकि हम भी किताबें पढ़कर अपने बच्चों को किस्से कहानियां सुनाते हैं हमारी भी जिज्ञासा शांत होती है और बहुत कुछ उन कहानियों से बच्चों के साथ साथ हम बड़ों को भी सीखने को मिलता है तो बजाय इसके कि हम स्मार्टफोन और टेबलेट पर खुद भी चिपके रहे  और बच्चों को भी वैसे ही आदत डाल दे उसकी बजाय खुद भी किस्से कहानियां पढ़े और बच्चों को भी किस्से कहानियां सुनाएं जिससे उनकी स्मरण शक्ति भी मजबूत होगी और आप एक दिन उस पर क्वेश्चन आंसर का  भी सैशन रख सकते हैं ताकि पता लगे बच्चे ने कितने ध्यान से आपकी कहानियों को सुना
बच्चों को अपनी सभ्यता और संस्कृति जानने का मौका
जब हम बच्चों को अपने नैतिक कहानियां या वीरता से भरी कहानियां सुनाते हैं तो बच्चों के अंदर भी वह भावना पैदा होती है साथ में बच्चों को यह पता लगता है कि पहले समय कैसा था अब समय कैसा है और बच्चों की दिलचस्पी भी बढ़ती है अगर आप को बच्चों की एकाग्रता बढ़ानी है तो बच्चों को कहानियां जरूर सुनाएं
कल्पना शक्ति का विकास होना
जब हम बच्चों को कहानियां सुनाते हैं तो वह अपने मन ही मन में कल्पना करने लग जाते हैं की कहानी के नायक नायिका या हीरो के रूप में अपने आप को देखना शुरू कर देते हैं कहानी में किस तरह के किरदार हो सकते हैं जब हम किसी राजा के बारे में बताते हैं या रानी के बारे में बताते हैं तो वह उसकी कल्पना करना शुरू कर देते हैं तो इससे जो है बच्चे की रचनात्मक शक्ति का विकास होता है
अच्छा श्रोता विकसित होना
जब हम बच्चे को कहानी सुनाते हैं तो वह चुप होकर शांत होकर हमारे शब्दों को सुनता है तो इससे उसके अंदर एक शक्ति पैदा होती है कि हमें दूसरों की बात भी सुननी आनी चाहिए क्योंकि आजकल लोग सिर्फ बोलना जानते हैं सुनना नहीं जानते साथ ही बच्चों को जो हम कहानियां सुनाते हैं उनके अंदर अलग-अलग तरह की भावनाएं विकसित होती हैं वह बेहतर इंसान बनते हैं और क्योंकि उन्होंने संघर्ष वाली कहानियां सुनी होती है बुद्धिमता से बाहर भरी कहानियां सुनी होती है तो कहीं ना कहीं जब उनकी जिंदगी में दिक्कतें आती हैं तो वह कहानियों से रिलेट कर कर भी अपनी जिंदगी की दिक्कतों को सुलझा सकते हैं
अगर आप अपने बच्चों का बचपन जीवंत करना चाहते हैं  तो अपने बच्चों को कहानियां किस्से जरूर सुनाएं इससे एक तो आप उनके साथ समय व्यतीत कर सकेंगे दूसरा उनकी एकाग्रता स्मरण शक्ति सुनने की शक्ति उनकी भाषा पर पकड़ और अपनी सभ्यता और संस्कृति के बारे में उन्हें जागरूक कर सकेंगे

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares