Negativity पर कैसे पाए विजय

Negativity पर कैसे पाए विजय

Negativity पर कैसे पाए विजय

 

बहुत से लोग इस बात को लेकर परेशान है कि हम घर पे बैठे हैं हमारे दिमाग़ में बहुत सारी नकारात्मक सोच रही है उसको कैसे हम सकारात्मक सोच मैं बदलूँ आप वास्तव में जो चाहते हैं हमारे दिलोदिमाग़ हमें ख़ुद ही उस दिशा में खींच कर ले जाता है इसलिए आप नकारात्मकता से सकारात्मक बड़ी जल्दी आ सकते हैं इसमें जो आपका दिमाग़ जिस भी अवस्था में हैं उसके लिए हमें बड़े सालों तक हमने उस दिमाग़ को प्रशिक्षित किया है

 

खुद से करना पड़ेगा वादा

 

हमें ख़ुद से ये वादा करना पड़ेगा कि हम अपने ज़िंदगी में आए सभी क्षणों के लिए पूर्ण रूप से समर्पित रहेंगे उनका अच्छे से उपयोग करना पड़ेगा जब हमारा जो जीवन है हम इस बात को लेकर चलेंगे अपने आप से बातें करेंगे तो जीवन से पूरी तरह से बदल जाएगा और इस तरह का संकल्प भी हम कर सकते है कि हमारी जीवन में आज के बाद हम अपनी ज़िंदगी में अपने दिमाग़ में कोई नकारात्मक विचार नहीं जाएंगे, न ही उस पर मैं विचार करूँगा अगर कोई विचार आता भी है तो मैं उसे सामान्य तरीक़े से लूंगा

 

सोच का तरीका बदले

 

उसके ऊपर कोई ज़्यादा सोच नहीं रखूंगा ताकि वो अपने आप मेरे दिमाग़ से बाहर निकल जाएँ और अपनी सोच का तरीक़ा में बदलूँगा और इस भावना का अनुभव करिए कि हम सकारात्मक सोच रखते हैं तो हमारे अंदर शांति और आनंद आ जाता है और अगर भावनाएँ सारी हमारे अंदर हैं तो हम बहुत जल्दी ज़िंदगी की चीज़ों को पूरा कर सकते हैं यदि हम सपने देख सकते हैं तो उसे पूरा भी तो कर सकते हैं तो हम अच्छी सोच के सपने क्यूँ न देखें भले ही हम उसका नाटक करें भरपूर

 

नाटक करते करते कई बार क्या होता है हम में से बहुत से लोग जीवनभर वहाँ पहुँच कर ही ग़लत विचारों के विरोधों का सामना करते हैं तो हमारे लिए सकारात्मक विचारों को उठाना भी इतना आसान नहीं होता हमें हर स्थिति की में अपने आप में समझ और करुणा रखनी पड़ेगी

 

Past को जाए भूल

 

हमारे को कौन रोक रहा है जो अच्छे विचारों की तरफ़ जाने पर हमें उन सबका एनालिसिस करना पड़ेगा तभी हम उन सब चीज़ों से बाहर हो पाएंगे अपना दिमाग़ आज अभी जो कुछ हो रहा है उसी पर केंद्रित रखे भूतकाल की तरफ़ न जाएं तभी हम ख़ुश रह पाएंगे अगर हम आज अपना खेल अभी खेलेंगे तभी अपनी बेस्ट परफॉर्मेंस देंगे क्योंकि जो आज चल रहा है उस पर कोई ऐसा दबाव नहीं होता दबाव हमारे पास तब बनता है जब हम भविष्य की चिंता कर करके सोचते हैं और अपना आज भी ख़राब कर लेते हैं जब भी हमें लगता है कि हम स्थितियों के पार नहीं पा पाएँगे

 

 

तो ख़ुद से बात करना शुरू कर कीजिये की जैसे हम किसी बच्चे से कहते हैं ना जब किसी बच्चे को कोई सफलता मिलती है तो हम उस बच्चे को भी तैयार करते हैं उसको प्रोत्साहित करते हैं इसी तरह से जब आपकी ज़िंदगी में नकारात्मक विचार आप पर हावी होने लगे तो अपने आप को एक बच्चे की तरह समय दीजिये और अपने आप को एक बच्चे की तरह ट्रीटमेंट दीजिए और अपने दिल आत्मा शरीर और दिमाग़ का अच्छी तरह से ख़याल रखें तभी आप अपने लिए और दूसरों के लिए ख़ुशहाली को ला पाएंगे जो भी परमात्मा पर स्नेह रखते हैं वो अपनी इंद्रियों पर जल्द ही संयम रखकर बहुत जल्दी ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं और परम शान्ति को प्राप्त कर लेते हैं तब हमारे भीतर की हलचल समाप्त हो जाती है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares