Chandrayaan 3 : चन्द्रमा की तरफ बढ़ते भारत के कदम

Chandrayaan 3 : चन्द्रमा की तरफ बढ़ता भारत

 

चंद्रयान-3: भारत का तीसरा चंद्र मिशन

चंद्रयान-3 भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) का तीसरा चंद्र मिशन है। यह चंद्रयान -2 का अनुवर्ती मिशन है, जिसे 2019 में लॉन्च किया गया था। चंद्रयान -3 14 जुलाई, 2023 को लॉन्च होने वाला है, और यह चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर एक लैंडर और रोवर को सॉफ्ट-लैंड करने का प्रयास करेगा।

भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक विक्रम साराभाई के नाम पर लैंडर का नाम विक्रम रखा गया है। रोवर का नाम प्रज्ञान रखा गया है, जिसका संस्कृत में अर्थ है “ज्ञान”। लैंडर और रोवर को जीएसएलवी मार्क III रॉकेट द्वारा अंतरिक्ष में ले जाया जाएगा।

 

चंद्रयान-3 के मुख्य वैज्ञानिक उद्देश्य हैं:

चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव की जांच करें, जो एक ऐसा क्षेत्र है जिसका पिछले मिशनों द्वारा पता नहीं लगाया गया है।
पानी की बर्फ के वितरण सहित चंद्रमा की सतह और उपसतह का अध्ययन करें।
विकिरण पर्यावरण सहित चंद्र पर्यावरण की विशेषताएँ बताएं।
चंद्रयान-3 भारत के लिए एक महत्वपूर्ण मिशन है, क्योंकि यह चंद्रमा पर लैंडर और रोवर की सॉफ्ट-लैंडिंग करने की देश की क्षमता का प्रदर्शन करेगा। इस मिशन से चंद्रमा के बारे में हमारी समझ में भी महत्वपूर्ण योगदान मिलने की उम्मीद है।

 

चंद्र दक्षिणी ध्रुव का महत्व

चंद्र दक्षिणी ध्रुव एक ऐसा क्षेत्र है जिसका पिछले मिशनों द्वारा पता नहीं लगाया गया है। ऐसा इसलिए है क्योंकि दक्षिणी ध्रुव स्थायी रूप से छाया वाले क्षेत्र में है, जिससे वहां अंतरिक्ष यान उतारना मुश्किल हो जाता है। हालाँकि, चंद्रमा का दक्षिणी ध्रुव भी एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ पानी की बर्फ प्रचुर मात्रा में मानी जाती है।

जल बर्फ महत्वपूर्ण है क्योंकि यह चंद्रमा के भविष्य के मानव अन्वेषण के लिए एक संसाधन हो सकता है। पानी का उपयोग पीने के लिए, भोजन उगाने के लिए और बिजली पैदा करने के लिए किया जा सकता है।

 

चंद्रयान-3 पर वैज्ञानिक उपकरण

चंद्रयान-3 पर लैंडर और रोवर कई वैज्ञानिक उपकरण ले जाएंगे। इन उपकरणों का उपयोग चंद्रमा की सतह और उपसतह, चंद्र पर्यावरण और जल बर्फ के वितरण का अध्ययन करने के लिए किया जाएगा।

 

चंद्रयान-3 पर कुछ वैज्ञानिक उपकरण शामिल हैं:

 

अल्फा पार्टिकल एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर (एपीएक्सएस): इस उपकरण का उपयोग चंद्र सतह की मौलिक संरचना का विश्लेषण करने के लिए किया जाएगा।

लेजर प्रेरित ब्रेकडाउन स्पेक्ट्रोस्कोपी (एलआईबीएस): इस उपकरण का उपयोग चंद्र सतह की मौलिक संरचना का अधिक विस्तार से विश्लेषण करने के लिए किया जाएगा।

रहने योग्य ग्रह पृथ्वी की स्पेक्ट्रो-पोलरिमेट्री (SHAPE): इस उपकरण का उपयोग चंद्र कक्षा से पृथ्वी के वर्णक्रमीय और पोलारिमेट्रिक गुणों का अध्ययन करने के लिए किया जाएगा।

चंद्रयान-3 का भविष्य

चंद्रयान-3 की सफलता भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए एक बड़ा मील का पत्थर साबित होगी। यह चंद्रमा पर लैंडर और रोवर की सॉफ्ट-लैंडिंग करने की देश की क्षमता को प्रदर्शित करेगा और यह भविष्य के चंद्र अन्वेषण मिशनों के लिए मार्ग प्रशस्त करेगा।

इसरो की चंद्रयान-3 के लिए कई अनुवर्ती मिशन लॉन्च करने की योजना है। ये मिशन चंद्रयान-3 की वैज्ञानिक खोजों पर आधारित होंगे और चंद्रमा के बारे में हमारी समझ को आगे बढ़ाएंगे।

Chandrayaan 3 landing Date On Moon

चंद्रयान-3 की लैंडिंग डेट की बात करे तो चंद्रयान 3 आज 23 अगस्त 2023 को शाम 6 बजकर 4 मिनट  चन्द्रमा पर लैंड करेगा और आप चंद्रयान-3  को चाँद पर उतरते हुए लाइव भी देख सकते है 

निष्कर्ष

चंद्रयान-3 भारत और दुनिया के लिए एक महत्वपूर्ण मिशन है। इसमें चंद्रमा के बारे में हमारी समझ में बड़ा योगदान देने की क्षमता है, और यह भविष्य में चंद्रमा पर मानव अन्वेषण का मार्ग प्रशस्त कर सकता है।

 

Elon Musk से सीखने वाली जीवन की 10 मूल्यवान बातें

Spread the love