Bhagwan Parshuram Jayanti 2023 – शक्ति साहस और धर्म के प्रतीक

Bhagwan Parshuram Jayanti 2023 – शक्ति साहस और धर्म के प्रतीक

भगवन परशुराम जयंती भारत और दुनिया भर में हिंदू समुदाय द्वारा मनाया जाने वाला एक शुभ अवसर है। यह भगवान परशुराम की जयंती का प्रतीक है, जिन्हें भगवान विष्णु का छठा अवतार माना जाता है। त्योहार वैशाख के महीने में शुक्ल पक्ष के तीसरे दिन मनाया जाता है, जो आमतौर पर अप्रैल या मई में पड़ता है। इस बार भगवान परशुराम जन्मौत्सव मनाया जा रहा है 22 अप्रैल 2023 दिन शनिवार को 

भगवान परशुराम शक्ति, साहस और धार्मिकता के प्रतीक के रूप में पूजनीय हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, उनका जन्म ऋषि जमदग्नि और उनकी पत्नी रेणुका से हुआ था। उनका पालन-पोषण एक योद्धा के रूप में हुआ था और उनके पिता ने उन्हें युद्ध के विभिन्न रूपों में प्रशिक्षित किया था। वह अपने पिता के प्रति तीव्र भक्ति और धर्म (धार्मिकता) को बनाए रखने के लिए अपनी अटूट प्रतिबद्धता के लिए जाने जाते हैं।

इस दिन, भक्त भगवान परशुराम से आशीर्वाद लेने के लिए प्रार्थना करते हैं और पूजा अनुष्ठान करते हैं। वे उन्हें समर्पित मंदिरों में जाते हैं और सम्मान के निशान के रूप में फूल, फल, मिठाई और अन्य प्रसाद चढ़ाते हैं। कई लोग इस दिन अपनी भक्ति दिखाने के लिए व्रत भी रखते हैं।

यह त्योहार किसानों के लिए भी बहुत महत्व रखता है क्योंकि यह भारत के कई हिस्सों में बुवाई के मौसम की शुरुआत का प्रतीक है। ऐसा माना जाता है कि भगवान परशुराम ने अपने फरसे से समुद्र से कई उर्वर भूमि को निकालकर बनाया था। इसलिए किसान भरपूर फसल के लिए उनसे आशीर्वाद मांगते हैं।

भारत के कुछ हिस्सों में, विशेष रूप से महाराष्ट्र और गोवा में, लोग धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करके इस त्योहार को बड़े उत्साह के साथ मनाते हैं। वे पूरन पोली (एक मीठी रोटी) जैसे पारंपरिक व्यंजन भी तैयार करते हैं और इसे अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों को देते हैं।

परशुराम जयंती हम सभी के लिए धर्म को बनाए रखने और अन्याय के खिलाफ लड़ने के लिए एक अनुस्मारक के रूप में कार्य करती है। यह हमें सिखाता है कि हमें हमेशा सही के लिए खड़े रहना चाहिए, भले ही इसके लिए हमें अपने ही परिवार के सदस्यों के खिलाफ जाना पड़े। त्योहार हमें अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में कड़ी मेहनत और समर्पण के महत्व की भी याद दिलाता है।

अंत में, परशुराम जयंती एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान परशुराम की जयंती मनाता है। यह उनका आशीर्वाद लेने और उनकी धार्मिकता, साहस और भक्ति की शिक्षाओं को याद करने का दिन है। यह शुभ अवसर सभी के लिए शांति, समृद्धि और खुशियां लेकर आए

 

Akshaya Tritiya 2023 date अक्षय तृतीया का महत्व और शुभ मुहूर्त

 

10 Benefits Of Reading Books In Hindi किताबें पढ़ने के फायदे

Spread the love