10 Tips साहस के साथ कामयाबी पाने के

10 Tips साहस के साथ कामयाबी पाने के

10 Tips साहस के साथ कामयाबी पाने के

 

जिस तरह से हम जिम में जाते हैं अपनी मांसपेशियों को बनाते हैं या कम करते हैं उसी तरह से साहस या हिम्मत भी मानसिक रूप से मदद की भांति ही काम करता है जिस तरह से कुछ बच्चे पैदा होते ही मोटे ताजे होते हैं और कुछ कमजोर पैदा होते हैं जो कमजोर पैदा होते हैं उनको माता-पिता को अच्छा खान-पान देकर शारीरिक रूप से मजबूत बनाना पड़ता है उसी तरह से हिम्मत और साहस को भी अपने अंदर पैदा करने के लिए पहचानने के लिए विकसित करने के लिए काम करना पड़ता है इसके लिए कुछ टिप्स देने जा रही हूं साथ ही धीरूभाई अंबानी की कही हुई बातों को शेयर करने जा रहे हैं जिसे मुकेश अंबानी जी ने अपने शब्दों में कहा है

इस समय रिलायंस इंडस्ट्रीज सुर्खियों में बनी हुई है और 1200000 करोड का मार्केट कैप पूरा करके देश की पहली कंपनी बन गई है और कर्ज मुक्त कंपनी है रिलायंस इंडस्ट्री में फेसबुक गूगल और बड़ी-बड़ी कंपनियों ने निवेश किया है मुकेश अंबानी जी इसका सारा श्रेय अपने पिता धीरूभाई अंबानी द्वारा मिली गई सीख को यह उनके भाषण की कुछ महत्वपूर्ण बातें हैं 

 

 

1 साहस

पहली सीख तो उन्होंने अपने भाषण में बताएं इस साहस और हिम्मत यह दो जिंदगी के ऐसे पहलू हैं जिनके बिना जिंदगी नहीं चल सकती जिंदगी जीनी है तो यह दोनों चीजें बहुत जरूरी है आपको जिंदगी में अगर बड़ी सफलता हासिल करनी है तो साहस रखना पड़ेगा जब भी हम कोई बहुत बड़ा डिसीजन जिंदगी में लेते हैं तो अंदर ही अंदर कहीं डर भी लगा रहता है पर अगर आप विजय पाना चाहते हो तो अपने अंदर छुपे डर  से जीतना पड़ेगा अगर आपके अंदर साहब आत्मविश्वास है तो आप किसी भी परिस्थिति से जीत सकते हैं

 


 

2 सहानुभूति

आपकी जिंदगी आपके बिजनेस में जो भी लोग जुड़े हैं उनकी परवाह करना सीखिए उनसे अपने सुख-दुख सांझा करना सीखिए और उनके सुख-दुख अपने माननीय आप अपने साथ जुड़े लोगों की जितनी परवाह करेंगे उतना वह आपके साथ दिल के साथ जुड़ेंगे यह ऐसी दौलत है जिसे दूसरों पर जितना खर्च किया जाए उतनी बढ़ती है

 


 

3 भरोसा

मुकेश भाई अंबानी के शब्दों में भरोसा की सीख अपने पिता धीरूभाई अंबानी से मिली जब भी उन्होंने कोई नया व्यवसाय शुरू किया उसमें नई टेक्नोलॉजी और दुनिया की सबसे उत्तम प्रतिभाओं को शामिल किया जब नई तकनीक नहीं प्रतिभाएं साथ मिलकर काम करती हैं तो रचनात्मकता हमेशा उच्च स्तर पर होती है और वे नवीन अविष्कार करती है

 


 

4 दिल से रिश्ता बनाना

किसी को भी उन्हें अपने पिता से ही मिली वह कहते हैं मैं भी पिता की तरह लोगों पर भरोसा करना सीखता हूं वफादारी करना सीखता हूं और दिल से रिश्ते निभाता हूं और उसकी कदर भी करता हूं ओके आप भी जिंदगी में सफल होना चाहते हैं तो रिश्तो को दिल से बनाईए दिमाग से नहीं

 

धीरूभाई अंबानी के शब्दों में वेल्थ क्रिएशन कभी किसी एक से नहीं पैदा होती है कोई निवेश करता है कोई कड़ी मेहनत करता है कोई अपने हुनर का योगदान देता है जिस तरह से बिजनेस में शेयरिंग होती है उसी तरह से नॉलेज के क्षेत्र में भी ही चीजें लागू होनी चाहिए उनके शब्दों में लोग कहते हैं कि पैसा अगर बाटेंगे तो हमारे पास क्या रह जाएगा परंतु अगर आप अपना ज्ञान खुल कर बांटेंगे तो यह और बढ़ेगा

 


 

 

5  कंफर्ट जोन छोड़ कर देखिए

जिंदगी में अगर सफलता पानी है तो ऐसे कार्य करें जिनसे आपको कभी डर लगता था तो धीरे-धीरे आपके अंदर हिम्मत पैदा होनी शुरू होगी और अगर आपको लगता है कि आप लोगों से कुछ गलत कार्य कर रहे हैं तो बोलने का साहस रखें जब इंसान के अंदर डर होता है तो वह उसे सिर्फ मानसिक रूप से ही नहीं शारीरिक रूप से भी थकान देता है अगर तनाव महसूस हो रहा है तो मीठा खाएं अच्छा खाना खाए नींद पूरी करें और उन लोगों के साथ सिर्फ अपना डर शेयर करें जिनके ऊपर आप भरोसा करते हैं

 


 

6 नकारात्मकता व सकारात्मकता में बैलेंस बनाएं

कई बार हम किसी काम को सोचकर करते हैं और उसके आशा अनुरूप हमें परिणाम नहीं मिलते तो हम बहुत नकारात्मक हो जाते हैं जिंदगी में और उसकी गलतियों के लिए पूर्ण रूप से अपने आप को दोषी मानते हैं और बहुत लंबे समय तक उन नेगेटिव विचारों में डूबे रहते हैं तो जो काम करेगा गलती उसी से होगी जो काम ही नहीं करेगा उससे गलती क्या हो गई इसलिए अगर कोई गलती हो गई है और आपका काम सिरे नहीं चढ़ पाया तो अपने आप को दोषी ना माने और अपने अंदर यह भावना जगाए की अच्छा है मैंने इस काम से सीख ले ली अब जो मैं अगला काम कर लूंगा उसमें जो गलतियां इस काम में हुई वह अगले काम में ना हो

 


 

7 गुस्से में काम मत करें

कई बार हम साहस हिम्मत और गुस्से में फर्क नहीं कर पाते हमें लगता है हम साहस से काम कर रहे हैं तो हम दूसरों के ऊपर चीखना चिल्लाना शुरू कर देते हैं आप गुस्से में कोई भी काम करेंगे वह हमेशा गलत ही होगा इसलिए जब भी कोई काम करें जिसके अंदर साहस और हिम्मत की जरूरत है गुस्से को एक साइड पर रख कर काम करें आपको सफलता जरुर प्राप्त हो

 


 

 

8 प्रतिक्रिया हमेशा शांत रूप से दें

जब हम किसी के ऊपर नाराज होते हैं तो हमारा ब्लड प्रेशर बढ़ता है क्योंकि हम उनके से बोलते हैं या उन चीजों के बारे में बहुत सोचते हैं पर धीरे-धीरे जैसे हम शांत होते हैं हमारा ब्लड प्रेशर भी नीचे आता है तो प्रतिक्रिया जब भी दे शांत मन से दें क्योंकि अगर आप प्रतिक्रिया ऊंचे रूप से देंगे तो नुकसान आपको योगाही होगा साहस रखे हिम्मत रखे पर ब्लड प्रेशर का ध्यान भी रखें

 


 

 

9 अच्छे लोगों को साथ जोड़ें 

जिंदगी में हम अकेले चलकर कोई भी काम नहीं कर सकते हमें अच्छे लोगों की जरूरत हमेशा रहती है तो अच्छे दोस्त अच्छे लोगों को कभी अपनी जिंदगी से दूर ना जाने दे और जब भी कोई काम करें हमेशा यह सोचे कि आपको कोई ना कोई देख रहा है तो आप कभी गलत कार्य नहीं करेंगे

 


 

10 जोखिम को पहले से आंक ले

जब भी कोई काम करना चाहे तो साहस और हिम्मत के साथ साथ जो काम करने जा रहे हैं उसके अच्छे बुरे परिणामों के बारे में भी सोच लें और हम कितना जोखिम उठा सकते हैं उसके बारे में भी सोच ले तेरा रुपए पैसे की बात होती है तो हम यह देख ले हम कितना जोखिम आराम से उठा सकते हैं और अगर कल को नुकसान हो गया तो हमारी सेहत पर या हमारी परिवार और बिजनेस पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा साहस और जोखिम दोनों में बहुत फर्क है इस के अंतर को समझना बहुत जरूरी है

यह 10 Tips साहस के साथ कामयाबी पाने के थे कि हम अपने साहस को अपने अंदर कैसे ढूंढ सकते हैं कैसे उसे विकसित कर सकते हैं कैसे धीरूभाई अंबानी और मुकेश अंबानी की प्रेरक भाषणों से जिंदगी को मजबूत बना सकते हैं तो आप भी इन टिप्स को अपनाएं और प्रेरित रहिए

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares