पैसों को खर्च करने की कला

जानिये पैसों को खर्च करने की कला

जानिये पैसों को खर्च करने की कला

पैसे के मामले में हर किसी की आदतें अलग होती हैं और पैसों पर खर्च करने का तरीका भी अलग होता है किसी के पास पैसे कम होते हैं तो भी वह बहुत खर्चीला होता है किसी के पास पैसे ज्यादा होते हैं तो भी वह बहुत कंजूस होते हैं या कभी-कभी कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं जो बहुत सोच समझ कर खर्च करते हैं और भविष्य के बारे में भी वित्तीय प्लानिंग को रखते हैं तो आज जब पूरा संसार एक कोरोना जैसी महामारी से गुजर रहा है तो इस समय हमें भी यह चाहिए कि चीजें क्योंकि पहले जैसी नहीं रह रही हैं कई लोगों की नौकरियां नहीं है कई लोगों की सैलरी इसमें कट लग गया है तो हमें अपने वित्तीय जरूरतों को भी दोबारा से एक बार अवलोकन करने की जरूरत है

अभी हम Lockdown करके खुद को तो अंदर कर बचा रहे हैं परंतु आने वाले समय में हमें अपने वित्तीय जरूरतों को भी जीरो से शुरू करना पड़ेगा गौर करना पड़ेगा कि हमें पैसे से जुड़ी जो समस्याएं आ रही हैं उनको हम कैसे दूर कर सकते हैं मन के अंदर से सभी नकारात्मक ख्यालों को दूर करना पड़ेगा और हमें यह जिंदगी में वित्तीय प्लानिंग करते समय यह देखना होगा कि जिंदगी जीने के लिए कौन सी चीजें जरूरी है और कौन सी गैर जरूरी

यहां में आपको अलग अलग तरीके से लोग कैसे पैसे खर्च करते हैं और इस कठिन समय में हम उन में कैसे बदलाव लाकर अपनी वित्तीय जरूरतों को प्रबंधन कर सकते हैं

जानिये पैसों को खर्च करने की कला

खाने उड़ाने वाले लोग

कुछ लोग होते हैं जिनकी आदत होती है कि जो आया है उसे उड़ाओ मौज करो अच्छे ब्रांडेड कपड़ों के शौकीन होते हैं पैसे खर्च कर कर उन्हें आत्म संतुष्टि मिलती है और जो व्यक्ति स्वभाव से खर्चीला होता है वह कोई मोलभाव नहीं करता जो दुकानदार ने कह दिया उसने पैसे पकड़ाए और दुकान से निकल आए
पर इस समय यह जरूरी है कि थोड़ा समय निकाल कर हमें अपना एक बजट निर्धारित करना पड़ेगा और कुछ पैसे अलग से भी रखने पड़ेंगे ताकि जरूरत पड़ने पर हमें किसी और के पास मांगने जाने की जरूरत ना पड़े

सिर्फ बचत में ही विश्वास

कुछ लोग जिंदगी में सिर्फ बचत ही करके चलने में विश्वास रखते हैं और हर समय आने वाले समय के लिए पैसा जोड़ने में लगे रहते हैं पर बचत के चक्कर में भूल जिंदगी के मजे लेना भूल जाते हैं
क्योंकि हर उस समय उन्हें यह लगता है कि जहां पर भी हम पैसा यह खर्च कर रहे हैं जो हमें आनंद दे रहा है वह बेकार में हम खर्च रहे हैं उसको वह भूल जाते हैं तो कभी-कभी जिंदगी का आनंद भी लेना सीखे बचत करना अच्छी आदत है पर अति हर चीज की बुरी होती है

हर चीज के लिए कर्ज लेना

कुछ लोगों की आदत होती है कि उन्हें कोई भी चीज बाजार से खरीदनी है तो उन्हें लगता है कि इन सब चीजों के लिए अच्छा कर्ज मिल रहा है तो लेने में ही भलाई है कर्ज लेकर ही सभी चीजें बना लेनी चाहिए धीरे-धीरे करके किसने उतर जाएंगी परंतु जब हम कर लेते हैं तो उसकी हमें एक अतिरिक्त कीमत भी चुकानी पड़ती है ब्याज के रूप में या प्रोसेसिंग फीस के रूप में खर्चे देने के लिए और कई बात रसिया ऐसी उत्पन्न हो जाते हैं कि हम अपनी जो किशते हैं वह नहीं दे पाते
दो आजकल की परिस्थितियों में हमें बचना होगा लोन उठाने से क्योंकि हमें उतना ही लोन उठाना चाहिए अगर हमारी नौकरी चली भी जाती है या हमारी सैलरी में कट लग भी जाता है तो हम आराम से लोन की किस्तें चुका सकते हैं

 

सच्चाई से नजरें चुराना

कुछ लोग सच्चाई से नजरें चुराते हैं और वित्तीय स्थिति की इसलिए प्लानिंग नहीं करते कि हमें कुछ चीजों पर रोक लगानी पड़ेगी पर अगर हम अपनी परिस्थितियों को नजरअंदाज करते हैं तो हमारी वित्तीय स्थिति बिगड़ सकती है तो अपनी वित्तीय स्थिति का समय समय पर अवलोकन करना शुरू करें कि हम हर महीने कितनी बचत कर सकते हैं कितना खर्च कर सकते हैं

 

सिर्फ निवेश पर ही नजर

कई लोग जिंदगी में जो वित्तीय निर्णय बड़ी सावधानी से लेते हैं और पैसे भी बड़ा सोच समझकर खर्च करते हैं भविष्य के लिए बहुत सारी योजनाएं बनाते हैं तो अगर आप भी इस प्रवृत्ति के हैं तो जो आप निवेश करें वह सारा किसी एक ही जगह पर निवेश ना करें उसके लिए लंबे समय के निवेश छोटे समय के निवेश और मध्यम समय के निवेश जरूर चुने
ताकि जरूरत पड़ने पर आप अपने सारे निवेश को ना छेड़ कर छोटी अवधि वाले निवेश में से पैसा जरूरत के समय निकाल सके

पैसा आपका है खर्च कहां और कैसे करना है यह निर्णय भी आपका है मैंने अपने इस टॉपिक में कुछ आपको टिप्स दिए हैं कुछ लोगों के बारे में बताया कि किस किस तरह के लोग होते हैं और वह कैसे कैसे अपनी वित्तीय प्लानिंग को लेकर चलते हैं और उनमें हम किस तरह से बदलाव करके अपनी वित्तीय स्थिति को सुधार सकते हैं

Read This पेरेंटिंग में होंगे बडे़ बदलाव स्कूल कॉलेज खुलने के बाद

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares