कैसे छोटा सा सहयोग भी है महत्वपूर्ण Best Motivational Story in hindi

कैसे छोटा सा सहयोग भी है महत्वपूर्ण Best Motivational Story in hindi

कैसे छोटा सा सहयोग भी है महत्वपूर्ण Best Motivational Story in hindi

 

जिंदगी में हर व्यक्ति को किसी ना किसी की सहायता की जरूरत पड़ती है और कहा जाता है जमीन पर पड़े मिट्टी के कण की भी कई बार जरूरत पड़ जाती है और वह भी आपका जिंदगी में सहयोग कर सकता है पर कई बार हम उन चीजों को मानते नहीं हैं समझते नहीं हैं और किसी के छोटे से सहयोग को नजरअंदाज कर सकते हैं क्या आपने कभी देखा है कि एक सुई जो सिलने का काम कर सकती हैं वहीं कैंची बड़ी होकर भी काटने का काम करती है तो हर एक का अपनी जिंदगी में अलग अलग महत्व है अलग अलग काम है तो किसी के छोटे से सहयोग को नकारना नहीं चाहिए

 

आप कभी किसी ऑफिस में अगर काम कराने गए होंगे तो आपने देखा होगा कि अगर आप उस ऑफिस के चपरासी को खुश कर देते हैं तो आपका काम उतनी जल्दी से हो जाता है और वह ऑफिसर के बारे में भी आपको जानकारी लाकर दे देते हैं और कई लोग चपरासी को नजरअंदाज करके सीधा ऊपर तक पहुंचते हैं तो उनको उनकी फाइल का स्टेटस नहीं पता लगता कि बात में यहां इसलिए लिख रही हूं कि किसी का भी सहयोग जिंदगी में कभी गलत नहीं होता किसी के छोटे सहयोग को कम नहीं आंकना चाहिए कौन कब किस घड़ी आपके पास आकर आपको सहयोग दे दे आपको पता भी नहीं पड़ेगा. भगवान राम की जिंदगी में जुड़ी एक गिलहरी की कहानी से आपको छोटे सहयोग की बड़ी महत्ता के बारे में बताने जा रही हूं

 

 

एक समय की बात है जो भगवान राम लंका पर पहुंचने के लिए समुद्र पर पुल बनाने की तैयारी कर रहे थे भगवान राम की सेना में नल और नील नाम के दो वानर थे वह जो भी पत्थर पानी में डालते वह डूबते नहीं थे और इसी वजह से सारी वानर सेना ने उठा उठा कर पत्थर उनको दिए और वह पानी में फेंकते गए और उनका पुल बनता चला गया क्योंकि वह सतह पर उन पत्थरों को जमाते चले जाते थे और पुल बनता चला गया 

रामसेतु जब बन रहा था तो एक छोटी सी गिलहरी भी इस सारे प्रकरण को देख रही थी तो उसके मन में आया कि भगवान को कहीं ना कहीं सहायता की जरूरत है तो मुझे भी इस काम में अपना हाथ बटाना चाहिए तो उस नन्ही  गिलहरी से और तो कुछ नहीं हो सकता था उसने क्या करा समुंदर के पानी में अपनी पूछ धोती और वापस तट पर आकर अपनी पूंछ जो है रेत पर फेंक दी जो रेत  के कण उसकी पूंछ से चिपक ते उनको जाकर वह पत्थरों पर पटक आती  और वह दिन भर इसी तरह के काम में लगी रही और अपने आपको उसने थका लिया

 

Hindi Motivational story

 

अपनी तरफ से वह सहयोग कर रही थी कि उन पत्थरों को जमाने में जो पुल को जोड़ रखेंगे और समुद्र में से पानी की मात्रा कम होगी तो पुल आसानी से बन जाएगा कई वानरों ने उसका मजाक उड़ाया और वो बिना किसी मुश्किल के उस सुबह से लेकर शाम तक अपने काम को करती रही

 

 

भगवान राम सारा कुछ देख रहे थे शाम होते ही उन्होंने गिलहरी को अपनी गोद में उठाया और उसकी पीठ पर शाबाशी दी और धन्यवाद भी दिया कहा जाता है कि गिलहरी के पीठ पर जो निशान है वह रामजी की उंगलियों के निशान हैं 

short motivational story in hindi

 

अगर नन्ही सी गिलहरी भगवान श्रीराम का स्नेह अपने छोटे से सहयोग से कर सकती है तो हम क्यों नहीं इसलिए जहां पर भी किसी को जरूरत हो तो सहयोग दीजिए यह मत सोचिए कि सहयोग छोटा है बड़ा है जिस रूप में जितना कर सके जरूर करिए आपका छोटा सा सहयोग केवल दूसरों के लिए नहीं बल्कि औरों के लिए भी महत्वपूर्ण साबित होता है

 

कैसे छोटा सा सहयोग भी है महत्वपूर्ण Best Motivational Story in hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

shares