Holi Date 2021: Rango Ka Tyohaar Holi Kab Hai

Holi Date 2021: Rango Ka Tyohaar Holi Kab Hai

नमस्ते आप सब सभी को, जो रोजाना इस ब्लॉग पर आकर हमे इतना प्यार दे रहे है, आप सब के इस प्यार और सपोर्ट के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, तो मार्च के इस महीने में अब थोड़ी गर्मी होनी शुरू हो गयी है लेकिन इस बार एक प्राचीन पर्व यानी रंगों त्यौहार होली भी इस बार आने वाली है, बात करे पिछले साल की तो होली का त्यौहार 10 मार्च 2020 के दिन था और इस बार भी अब Holi 2021 date जानने के इच्छुक है की होली कब की है 

Holi in 2021

हर साल की तरह इस बार भी होली फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को मनाई जा रही है, इस बार रंगों का त्यौहार भी पूरी धूमधाम से मनाया जाएगा, इस बार बात करे होलिका दहन की तो वो रविवार यानी 28 मार्च 2021 को है और अगले दिन 29 मार्च को रंग और गुलाल लगाने वाली होली मनाई जायेगी, अगर यहाँ बात करे की होलिका दहन के शुभ मुहूर्त की तो ये 28 मार्च 2021 को शाम 6:36 से शुरू होकर 8:56 तक रहेगा, इस बार होलाष्टक भी 22 मार्च से शुरू हो जायेगा, और ऐसा कहा जाता है की इस होलाष्टक के दौरान कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता है 

बात करे अगर Holi Date 2021 Haryana, Holi Date 2021 Delhi की यहाँ भी होली इसी दिन 29 मार्च को ही मनाई जाएगी. होली का त्यौहार प्रतीक है सब गिले शिकवे भुलाकर आपसे भाई चारे को बढ़ाने का, होली के दिन एक दुसरे को गुलाल लगाकर सब गिले शिकवे जरुर दूर करे ले और लाइफ को एक बार फिर से नयी राह पर ले कर चले 

होली की कहानी 

होली के त्यौहार की सबसे प्रसिद्ध और पौराणिक कहानी है भक्त प्रहलाद की, पौराणिक कथाओ के अनुसार हिरनकश्यप नाम का एक अत्यंत बलशाली और ताकतवर असुर बहुत अहंकारी था, अपनी ताकत के दम पर ही वो खुद को भगवान समझने लगा था और इसी वजह से उसने अपने राज्य में भगवान का नाम लेने पर पाबन्दी लगा दी थी, वो चाहता था की हर कोई उसे ही भगवान् समझे और उसी की ही पूजा करे, लेकिन हिरनकश्यप का बेटा प्रह्लाद तो भगवान् की भक्ति में लीन रहता था, हिरनकश्यप को ये सब पसंद नहीं था इसलिए उसने प्रह्लाद को बहुत कठोर दंड दिए लेकिन प्रह्लाद एक सच्चा भक्त था और उसने भगवान् की भक्ति करना जारी रखा, प्रह्लाद की एक बहन थी जिसका नाम था होलिका, जिसे ये वरदान था की आग उसे जला नहीं सकती, इसके बाद हिरनकश्यप ने होलिका को आज्ञा दी को वो अग्नि में जाकर बैठ जाए और प्रह्लाद को गोद में ले ले, लेकिन सच्चा भक्त प्रह्लाद तो उस अग्नि में जलने से बच गया और होलिका जिसे वरदान था की वो भस्म नहीं हो सकती वो खुद जल गयी,इसलिए होली का त्यौहार मनाया जाता है ताकि लोगों को बुराई पर अच्छाई की जीत का पता लग सके 

होली का महत्व

होली एक ऐसा पर्व है जिसे ना सिर्फ भारत में बल्कि अब तो विदेशो में भी लोग खूब धूमधाम से मनाते है, एक दुसरे को गुलाल लगाकर, सब पुरानी रंजिशो और गिले शिकवे भुलाकर एक दुसरे को गले लगाते है, भारत में ब्रज की होली हो या फिर बरसाने की लठमार होली हो हर कोई होली को पुरे दिल से मनाता है, तो बस आप भी Holi 2021 को पुरे आदर भाव से मनाये और हाँ अपनी सेहत का ख्याल जरुर रखे

My Youtube : Dr. Renu Arora 

Leave a Comment