कैसे पहचाने अपने गुणों और क्षमताओ को

Spread the love
कैसे पहचाने अपने गुणों और क्षमताओ को
जीवन एक चलती नदी की धारा है जिसमें हर वक्त एक नया संघर्ष भरा है और इस संघर्ष से हर व्यक्ति को गुजारना पड़ता है मुसीबतों से हम कितनी देर भाग लेंगे आखिरकार हमें मुसीबतों का सामना करना ही पड़ेगा और अगर एक दिन हमें ही मुसीबतों का सामना करना है तो फिर आज ही उसके लिए हिम्मत क्यों ना जताने बीच रास्ते से जब हम लौटने का फैसला करते हैं तो कोई फायदा नहीं क्योंकि वापसी आने में भी उतना वक्त लगेगा जितना हमें वहां पहुंचने पर लगा था
वापस आने का निर्णय हम तब लेते हैं जब हम अपने गुणों को अपनी सहनशक्ति को अपने आत्मविश्वास को नहीं पहचान पाते अपनी क्षमता को कभी भी कम नहीं आंकना चाहिए कभी किसी से कम नहीं समझना चाहिए जो जिंदगी में ठान लिया उसके लिए अपने अंदर विश्वास पैदा करिए और विश्वास के सहारे बड़े बड़ों की नैया पार हो जाती है आज दो कहानियों के माध्यम से आपको मैं रूबरू कर आऊंगी कि कैसे उन्होंने अपने गुणों पर भरोसा रखा और वह जिंदगी की जंग को जीत गए
सबसे पहले एक कहानी है एक अभिनेत्री की जिंदगी से जुड़ी हुई
एक लड़की थी उसे बचपन से ही अभिनय करने का शौक था और उसके दोस्त भी यह मानते थे कि अगर वह अभिनय में अपने आप को आजमाएं तो बहुत अच्छा कर सकती है एक दिन उसने दोस्तों की बात मान ली और उसने मॉडलिंग शुरू कर दी, एक दिन उसके मित्र को पता लगा कि कहीं पर अभिनेत्रियों को चुना जा रहा है तो उसने उस अभिनेत्री को भी संदेश दिया कि वह भी वहां पहुंचे और अपनी किस्मत आजमाए
वहां पर बहुत सारी लड़कियां अपनी किस्मत आजमाने के लिए आई हुई थी यह अभिनेत्री भी लाइन में लग गई किस्मत आजमाने के लिए कुछ देर के बाद ऑडिशन के लिए इस अभिनेत्री को भी अंदर बुलाया गया जो स्टूडियो एडजेक्टिव था उसने उसको देखा और बोला की मैं माफी चाहता हूं कि तुम इस कार्यक्रम के लिए तो क्या पूरे जीवन में कभी अभिनेत्री के काबिल नहीं बन पाओगी तुम्हारे में अभिनय की प्रतिभा ही नहीं है
उसकी बातों को सुनकर अभिनेत्री ने अपने आप को संभाला और बोला कि आप मेरे सिर्फ कुछ डायलॉग बोलने से कैसे यह अंदाज लगा सकते हैं कि मैं पूरी जिंदगी कभी सफल अभिनेत्री नहीं बन पाओगी हो सकता है आपके इस शो के लिए मैं खरी नहीं उतरती हूं पर आज मैं आपको यहां से एक वादा करके जा रही हूं कि मैं जिंदगी में एक सशक्त अभिनेत्री बनकर आपके सामने आऊंगी
उसका सबसे बड़ा जो जीतने का कारण था कि उसको अपने गुणों पर विश्वास था अपनी लगन और मेहनत पर विश्वास था उसने हिम्मत नहीं कोई और अपने अभिनय को निखारने के लिए दिन-रात प्रैक्टिस करी वह दिन-रात शीशे के सामने अभिनय करती और अपने आप को सुधारती, एक दिन उसके घर में से सब ने सुझाव दिया कि वह इतनी अभिनय के लिए समर्पित है तो कहीं पर जॉब इंटरव्यू जाकर देने की बजाय अपना खुद का शो बनाएं इस अभिनेत्री ने अपने घर की सहायता से पैसे उधार लेकर सो बनाया उस शो का नाम था आई लव  लूसी, उसके हिम्मत लगन और आत्मविश्वास से अशोक कई सालों तक नंबर वन दुनिया का शो बना रहा और इस अभिनेत्री को बहुत सारे अवॉर्ड भी मिले
यह कहानी यहां आपको सुनाने या मेरा लिखने का अर्थ यही है कि अगर आप अपने गुणों को नहीं पहचानेंगे तो सामने वाला तो आपको कभी भी नकार देगा
अब दूसरी कहानी मेरी खुद की जिंदगी से जुड़ी है
मैं पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट हूं जिस समय मैंने सीए करनी शुरू की उस समय कोई ट्यूशन कोई ऑनलाइन क्लासेस कुछ भी उपलब्ध नहीं था जो कुछ भी करना था सब अपनी मेहनत से करना था परिवार में इतनी सामर्थ्य नहीं थी कि वह बहुत कुछ मेरी जिंदगी के लिए कर पाए पर मन में एक तमन्ना थी एक विश्वास था कि जिंदगी में कुछ करना है अपने पैरों पर खड़ा होना है
जिस दिन मेरी सीए इंटर के दोनों ग्रुप क्लियर को है तो मैं अपने ऑफिस में मिठाई लेकर गई तो मेरे बॉस के मुझसे क्या शब्द थे कि तू तो नालायक ही थी तुझसे यह उम्मीद नहीं थी कि तुम दोनों ग्रुप इकट्ठे क्लियर कर लेंगे क्योंकि सीए की पढ़ाई जो करते हैं वही इसको समझ सकते हैं और जान सकते हैं कि यह कितनी मुश्किल है और हमारे समय में जो रिजल्ट भी था वह एक पर्सेंट क्या दो पर्सेंट आया करता था
मुझे फिर मेरे पास में टोंट मारा इंटर तो तूने किसी तरह कर ली तो फाइनल नहीं कर पाएगी और उस दिन मैंने मन में ठान लिया कि इससे मेरे गुणों का नहीं पता कि मैं कितनी जुनूनी हूं कितनी आत्मविश्वास से भरी हुई हूं और आज 21 साल हो गए मुझे सीए बने
कहानियों के माध्यम से सिर्फ में यह संदेश देना चाहती हूं कि अपने गुणों को पहचानना सीखे अपने आप को कभी कम ना आगे आप अगर चाहे तो आसमान जमीन पर झुकाने की ताकत रखते हो सिर्फ अपने ऊपर विश्वास रखें
Exit mobile version